बंद करे

आपदा प्रबंधन

आपदा प्रबंधन का अर्थ है कि ऐसे सभी उपाय किए जाने चाहिए जिससे खतरा आपदा का रूप न ले सके। चूंकि, हम कई प्राकृतिक खतरों को आने से नहीं रोक सकते हैं, लेकिन जीवन और संपत्ति के नुकसान को कम करने के लिए उचित प्रबंधन द्वारा उनके हानिकारक प्रभावों को कम कर सकते हैं। आपदाएं प्राकृतिक या मानवीय खतरों के परिणाम हैं। वास्तव में वर्तमान खतरा प्राकृतिक आपदाओं से उतना नहीं है, जितना मानव निर्मित आपदाओं से है। उदाहरण के लिए – सतत शहरीकरण के कारण शहरी बाढ़, खराब जल प्रबंधन के कारण सूखा, तेजी से ढांचागत विकास और हिमालय क्षेत्र जैसे पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों में अधिक जनसंख्या बसने से भूकंप और भूस्खलन की समस्या पैदा होती है।

Cold Wave Advisory Videos
Sr.No. Description View Advisory
1 शीतलहर एडवाइजरी -1 Cold Advisory-1
2 शीतलहर एडवाइजरी -2 Cold Advisory-2
3 शीतलहर एडवाइजरी -3 Cold Advisory-3
4 शीतलहर एडवाइजरी -4 Cold Advisory-4
5 शीतलहर एडवाइजरी -5 Cold Advisory-5
Important Guidelines/Reports/GOs
Sr.No. Description Download Advisory Files
1
डीडीएमए टीम के सदस्य
Download File
2 आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 Download File
3 जिला आपदा प्रबंधन योजनाएं Download File
4 आपदा घटना प्रतिक्रिया दल Download File
5 आपदा के लिए रैपिड रिस्पांस टीम Download File
6 भकंप जोन में स्थित डैम के लिए योजना Download File
7 शीतलहर एडवाइजरी हेल्प फाइल Download File
8 कोर्ट आपदा प्रबंधन योजना Download File
9 लू से बचाव के उपाय Download File
10 अग्निकांड से बचाव हेतु सुरक्षा उपाय Download File
11 प्रेस विज्ञप्ति (जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ,लखीमपुर द्वारा जनहित में जारी) Download or view File
12 हीटस्ट्रोक की रोकथाम के लिए सुरक्षा उपाय Download or view File