पशुपालन

पशुपालन में रोग नियंत्रण, नस्ल सुधार कार्यक्रम और चारा विकास होता है। साथ ही, यह गायों, भैंस, भेड़, बकरियां, सूअर, खरगोश और कुक्कुट से युक्त पशुओं के खेतों का प्रबंधन करता है। विभाग पैक जानवरों के विकास पर जोर देने के साथ इक्विइन रोग नियंत्रण कार्यक्रम और समृद्ध पश्चात गतिविधियों से भी निपटता है। इनके साथ विभाग ज़ूनोटिक बीमारियों को भी नियंत्रित कर रहा है जो सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हैं।

कार्यालय का पता….
कार्यालय मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी विकास भवन लखीमपुर खीरी।